पंचांग 2 नवम्बर 2020

पंचांग 2 नवम्बर 2020

पंचांग 2 नवम्बर 2020

पंचांग 2 नवम्बर 2020

सुविचार

दिनयामिन्यौ सायं प्रातः,शिशिरवसन्तौ पुनरायातः।

कालः क्रीडति गच्छत्यायुस्तदपि न मुन्च्त्याशावायुः॥

भावार्थ :
दिन और रात, शाम और सुबह, सर्दी और बसंत बार-बार आते-जाते रहते हैं काल की इस क्रीड़ा के साथ जीवन नष्ट होता रहता है पर इच्छाओं का अंत कभी नहीं होता है।

।।आप सभी का दिन मंगलमय हो।।

Print Friendly, PDF & Email
Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *