घुमंतू बस्तियों में भी छाया रामोत्सव का उल्लास

घुमंतू बस्तियों में भी छाया रामोत्सव का उल्लास

घुमंतू बस्तियों में भी छाया रामोत्सव का उल्लासराम महायज्ञ में आहुतियां अर्पित कर लिया राम राज्य लाने का संकल्प 

जयपुर। रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का दिन मंदिरों और घरों में ही नहीं घुमंतू बस्तियों में भी धूमधाम से मनाया गया। घुमंतू जाति उत्थान न्यास की ओर से विभिन्न बस्तियों में हनुमान चालीसा पाठ, सुंदरकांड, महाआरती, दीपदान सहित विभिन्न कार्यक्रम हुए। मुख्य आयोजन वीकेआई रोड नंबर 17 के आकेड़ा डूंगर स्थित घुमंतू जाति बस्ती में रामोत्सव के रूप में हुआ। मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के घुमंतू कार्य के अखिल भारतीय प्रमुख दुर्गादास ने रामलला के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया और सभी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की शुभकामनाएं दीं।

उन्होंने कहा कि पांच सौ वर्षों के संघर्ष और बलिदान के बाद आज देश को दीपोत्सव मनाने का अवसर प्राप्त हुआ है।

विशिष्ट अतिथि निम्स यूनिवर्सिटी के निदेशक डॉ. पंकज सिंह, इंडियन फार्मासिस्ट एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष सर्वेश्वर शर्मा थे।

घुमंतू कार्य के महानगर प्रमुख राकेश शर्मा ने बताया कि राममय वातावरण में हनुमान चालीसा पाठ और भजन कीर्तन के कार्यक्रम हुए। अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के विद्वानों की टोली ने नौ कुंडीय गायत्री-श्रीराम महायज्ञ में विश्व कल्याणार्थ आहुतियां अर्पित करवाईं।

बस्ती के लोगों ने सपरिवार राम गायत्री महामंत्र से आहुतियां अर्पित कीं। व्यासपीठ से मनोज पारीक और उमाशंकर खंडेलवाल ने कहा कि राम इस देश के प्राण हैं। संस्कृति का आधार हैं। सभी ने इस अवसर पर एक बार फिर से रामराज्य लाने का संकल्प लिया। सभी लोगों को प्रसाद स्वरूप वेद माता गायत्री का चित्र, गायत्री चालीसा भेंट किया गया। बस्ती में संचालित बाल संस्कारशाला के बच्चों को कॉपी और स्टेशनरी भेंट की गई। इस अवसर पर निम्स हॉस्पिटल की ओर से नि:शुल्क चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया। बड़ी संख्या में लोगों ने चिकित्सा शिविर का लाभ उठाया। अंत में भंडारा प्रसादी हुई। भगवान जय श्रीराम के जयकारों के साथ लगभग 600 लोगों ने पंगत प्रसादी ग्रहण की।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *